सोमवार, मार्च 26, 2007


मूल नाम- शैलेश कुमार


जन्मतिथि- १६ अगस्त, १९८२



जन्मस्थान- डोमा, सोनभद्र (उत्तर प्रदेश)



शिक्षा- इलेक्ट्रानिकी एवम् संचारिकी में बी॰टेक॰



विवरण-


  • कक्षा १-५ प्राथमिक विद्यालय, डोमा (सोनभद्र)


  • कक्षा ६-१० उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, कोन (सोनभद्र)


  • कक्षा ११-१२ हिन्डालको इंटरमीडिएट कॉलेज़, रेणुकूट (सोनभद्र)


  • कक्षा बी॰टेक॰ जीएलए तकनीकी एवम् प्रबंधन संस्थान, मथुरा



वर्तमान- नई दिल्ली में रहकर नौकरी पाने की जुगत




साहित्य-कर्म

  • बी॰टेक॰ के दौरान अपनी शाखा की सोसाइटी 'साइनेप्स' में प्रधान सम्पादक


  • वेबजाल सृजनगाथा के दिसम्बर-अंक (दिल्ली अंक) का अतिथि-सम्पादन


  • हिन्द-युग्म के माध्यम से अंतरजालीय हिन्दी-कविता को माध्यम बनाकर देवनागरी प्रयोग को प्रोत्साहित करने की कोशिश (ज़ारी)

9 टिप्‍पणियां:

jai ने कहा…

namaskar shailesh ji
aap ki kavitaye mujhe bahut acchi lagati hai.harsh ka visay yah hai ki maine bhi aap ke college se class 6 se 12 tak kiya hai aur is samay main g.l.a se mca kar raha hoo.mca final year chal raha hai.college me orkut van hai isliye aap ko main orkut par message nahi kar pata.meri gmail ki id jainarayanyadav@gmail.com hai.yadi aap mujse baat karege to mujhe kafi accha lagega.

शोभा ने कहा…

अच्छा लगा ब्लाग देखकर। कविताएँ तो आप बहुत अच्छी लिखते ही हैं। आशा है इस ब्लाग पर कुछ नई रचनाएँ भी पढ़ने को मिलेंगी। सस्नेह

rajivtaneja ने कहा…

लगे रहो..जमे रहो....


जय हिन्दी.....जय भारत

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

आपका परिचय देखकर अच्छा लगा।
पर भइये, फोटो तो कोई अच्छी सी लगाते। या कम से कम फोटोशॉप से इसे धुलवा ही लेते।

DONGRE तृष्णा ने कहा…

गुड भाई ...


रामकृष्ण डोंगरे
http://dongretrishna.blogspot.com/

abhishek ने कहा…

मैंने आज हिन्दी युग्म पे महंगाई विषय पैर कुछ कविताये पढ़ी जो अन्तः मन को झाग्झोर देती है आज वास्तव में जब भारत वर्ष का युवा वर्ग पाश्चात्य सभ्यता की ओर आकर्षित है और उसे हमारे देश के बुनियादी समस्याओ से कुछ नही लेना देना ऐसे संवेदनशील समाये में आइस कविताये आवश्य उन्हें सोचने पे कुछ मजबूर करेंगी

Ankit ने कहा…

Wow Shailesh Ji
Now I know your Biography...

kauntay ने कहा…

hello

सुनीता शानू ने कहा…

आप भी चले आयें ब्लॉगर मीट में नई पुरानी हलचल